पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है – सटीक जानकारी

आज हम पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है सटीक जानकारी, गर्भावस्था में कितने दिनों बाद उल्टी आना शुरू होता है, पीरियड्स मिस होने से पूर्व प्रेग्नेंसी के क्या लक्षण दिखाई देते हैं? और पीरियड्स मिस होने पर गर्भावस्था के लक्षण इन्ही सब बातों के बारे में जानकारी देंगे|

महिलाओं में पीरियड्स मुख्य रूप से गर्भावस्था के लिए ही प्राकृतिक रूप से कार्य करती है और हर महीने जब तक महिला में गर्भ धारण न हो जाये तब तक यह पीरियड्स की प्रक्रिया निरंतर चलता रहता है|

यदि आप महिला है तो आपने जरूर कभी न कभी अपने किसी साथी से पीरियड्स मिस होने और उसके कारन प्रेगनेंसी के बारे में बाते सुनी होगी| महिला में पीरियड्स का साईकल तब बंद हो जाता है जब उनके गर्भाशय के अंडाणु पुरुष के शुक्राणु के साथ मिलकर निषेचित हो जाते है और निषेचन की प्रक्रिया पूर्ण हो जाती है| यह प्रक्रिया सहवास के बाद संभव होता है|

सामान्यतः पीरियड्स मिस होने के सबसे मुख्य कारन प्रेगनेंसी को माना जाता है. पीरियड्स मिस होने के अन्य कारन भी होते है लेकिन सहवास के बाद यदि पीरियड्स मिस हो तो इसकी सबसे अधिक संभावना रहती है की वह महिला गर्भवती हो चुकी है|

पीरियड्स मिस होने पर कितने दिनों बाद उल्टी होती है?

पीरियड्स मिस होने पर कितने दिनों बाद उल्टी होती है
पीरियड्स मिस होने पर कितने दिनों बाद उल्टी होती है

पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है इस प्रश्न का आशय यह है की की यदि महिला का पीरियड मिस हो जाए तो कितने दिनों के बाद पता लगता है की महिला के गर्भाशय में गर्भ धारण हुआ है की नहीं| यदि आप गर्भ निरोधक उपकरणों के साथ सहवास करते है तो इसकी बहुत कम या ना के सामान संभावना रहती है की महिला में गर्भ का धारण हो जाये|

यदि आप बिना किसी गर्भ निरोधक उपकरण के सहवास करते है तब महिला गर्भवती हो सकती है और पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है अथवा कितने दिनों बाद प्रेगनेंसी हो जाता है इसके बारे में भी कुछ संकेतो को समझ कर बताया जा सकता है व पता लगाया जा सकता है|

सामान्यतः महिला के गर्भाशय में गर्भ धारण के 4 से 6 सप्ताह के बाद उलटी का लगना प्रारंभ होता है| यदि आपको आपके अगले आने वाले मासिक धर्म के तारीख की जानकारी है और उस समय आपकी पीरियड्स की साईकल बंद हो चूका है तब उस दिन को लेकर आपके द्वारा सहवास के बीच की दिनांक की गिनती करें और जांचे 4 से 6 सप्ताह पूरा हुआ की नहीं|

यदि आपकी गिनती के अनुसार 4 से 6 सप्ताह चल रहा है और आप गर्भवती है तब आपको कभी न कभी उलटी आ सकती है. यदि 4 से 6 सप्ताह अभी पूर्ण नहीं हुए तब जल्द ही आपको उलटी आने व मिचली आने की जैसे समस्याएं महसूस होने लगेगी|

पीरियड्स मिस होने के कितने सप्ताह बाद उल्टी लगती है

यदि महिला बिना किसी गर्भ निरोधक उपकरण के सहवास करती है तब पुरुष का सुक्रानु महिला के अंडाणु से मिल कर भ्रूण का निर्माण करता है जिसके फलस्वरूप महिला का पीरियड का साईकल बंद हो जाता है अर्थात महिला को पीरियड्स आने बंद हो जाते है और महिला के गर्भाशय में गर्भ धारण हो जाता है|

यदि महिला के गर्भाशय में गर्भ का धारण हो जाए तब 4 से 6 सप्ताह के बाद उलटी आने, मिचली आने जैसी लक्षण स्वतः ही दिखाई पड़ने लगते है| यदि आपका प्रश्न है की पीरियड्स मिस होने के कितने सप्ताह बाद उल्टी लगती है तो इस बात का उत्तर आप इस तरह समझ सकते है|

जैसे:- आपको जिस तारीख के आस पास पीरियड्स आने वाले थे(जो की मिस हो चूका है) वह दिनाक व उससे पहले तक के दिनांक जिस जिन आपने सहवास किया कुल अवधि जोड़े और देखें कुल 4 से 6 सप्ताह हुए की नहीं| यदि 6 सप्ताह नहीं बिता या बीतने वाला है तब संभावना है की आपको प्रेगनेंसी आ चुकी है और उलटी भी आ सकती है|

गर्भावस्था में कितने दिनों बाद उल्टी आना शुरू होता है

महिला के गर्भ में सहवास के बाद गर्भ में 2 से 3 दिनों में भ्रूण का विकास होना चालू हो जाता है या गर्भाशय में गर्भ का धारण प्रारंभ हो जाता है| जिस समय महिला के गर्भाशय में गर्भ धारण हो जाता है उसके 4 से 6 सप्ताह बाद उलटी आने व मिचली आने की जैसी लक्षण दिखाई पड़ने लगते है|

गर्भधारण के बाद गर्भवती महिला को 4 से 6 सप्ताह बाद लगातार उलटी आने की समस्या चालू हो जाती है व इसके बाद कई महिला को प्रत्येक सप्ताह उलटी की समस्या होने लगती है तो किसी को बहुत कम उलटी होने की समस्या होती है|

यदि लगातार कई दिनों तक बिना रुके उलटी की समस्या हो तो तुरंत डॉक्टर से इलाज के बारे में सोचना चाहिए|

प्रेगनेंसी में उल्टी कब तक हो सकती है

प्रेगनेंसी के पता चलने के बाद 4 से 5 सप्ताह के बाद ही उलटी होने या मितली आने की समस्या होती है| सहवास के 6 से 7 दिनों के पश्चात ही महिलाओं में प्रेगनेंसी का पता चल जाता है अतः आपको जिस भी दिन गर्भवती होने का पता चले उस दिन से लेके सहवास के दिन सहित 4 से 5 सप्ताह की गिनती करें|

इतने दिनों में आपको आवश्य ही उलटी होने या मितली आने जैसी लक्षण दिखाई पड़ने लगेंगे|

Read More

पीरियड्स मिस होने से पूर्व प्रेग्नेंसी के क्या लक्षण दिखाई देते हैं?

पीरियड्स मिस होने से पूर्व प्रेग्नेंसी के क्या लक्षण दिखाई देते हैं
पीरियड्स मिस होने से पूर्व प्रेग्नेंसी के क्या लक्षण दिखाई देते हैं

बिना गर्भ निरोधक उपकरण के सहवास करने के पश्चात यदि महिला की पीरियड्स मिस हो जाये तो इसकी पूर्ण संभावना रहती है की महिला के गर्भाशय में गर्भ का धारण हो चूका है लेकिन पीरियड्स मिस होने से पूर्व भी प्रेग्नेंसी के कुछ ऐसे लक्षण होते है जिसके आधार पर पता लगाया जा सकता है की प्रेगनेंसी हुई अथवा नहीं|

पीरियड्स मिस होने से पूर्व प्रेग्नेंसी के लिए दिखाई देने वाले लक्षण:

1. ऐंठन :- गर्भधारण के बाद पेट के निचले हिस्से में या पीठ के तरफ ऐठन होना गर्भावस्था का सबसे सामान्य लक्षण में से एक है जो अधिकतर प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं में दिखाई पड़ती है|

2. शारीर का तापमान बढ़ जाना :- जब महिला के गर्भ में नया जीवन स्थापित होता है तब शारीर का तापमान बढ़ जाता है| प्रेगनेंसी के होने पर महिलाओं के शारीर में तापमान की वृद्धि होना यह सामान्य लक्षण माने जाते है|

3. स्तनों में दर्द होना या भारी हो जाना :- पीरियड्स के मिस होने से पहले महिला के स्तन में दर्द होना या उनमे भारीपन आ जाना प्रेगनेंसी का संकेत देती है| पीरियड्स मिस होने से पहले प्रेग्नेंसी के लक्षणों में स्तन का दर्द भी शामिल है| गर्भाशय में गर्भ धारण करने के बाद शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन बढ़ जाता है, जिससे स्तनों में दर्द होना शुरू हो जाता है और स्तन के निप्पल का रंग भी गहरा होना सुरु हो जाता है|

4. उल्टी :- गर्भावस्थ में जी घबराना या उलटी होना या मन का घूमना इन जैसे लक्षण बहुत आम होता है| पीरियड्स के मिस होने से पूर्व यदि उलटी आये व जी मिचलाने के जैसा अहसास हो तब इसे प्रेगनेंसी का लक्षण कह सकते है|

5. मूड स्विंग्स :- गर्भावस्था में माताओं का चिडचिडापन और छोटी छोटी बातों पर गुस्सा होने लगना यह बहुत ही आम लक्षण होते है| पीरियड्स मिस होने से पूर्व गर्भावस्था के लक्षण में मूड स्विंग्स का आना एक सामान्य लक्षण माना जाता है|

6. फूड क्रेविंग :- आपने जरूर देखा होगा जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उन्हें खट्टा आम या इमली खाना पसंद होता है जो प्रेगनेंसी के एक विशेष लक्षण के तौर पर माने जाते है ठीक इसी प्रकार पीरियड्स मिस होने से पूर्व गर्भावस्था का पता लगाने के लिए फूड क्रेविंग एक सामान्य लक्षण के तौर पर माना जाता है|

गर्भावस्था में महिलाओं को अपने मनपसंद खान पान की चीजे खाने की इक्षा में वृधि होती है कई महिलाओं को प्रेगनेंसी के सुरुवाती लक्षण में होती है तो कई को पुरे गर्भावस्था के दौरान ऐसा एहसास हो सकता है|

7. भूख और प्यास का बढ़ना :- गर्भ में भ्रूण स्थापित होने पर महिला के भूख और प्यास में वृद्धि होती है व पीरियड्स मिस होने से पूर्व गर्भावस्था का पता लगाने के लिए यह लक्षण सामान्य लक्षण में से एक है|

8. बार बार पेशाब आना :- प्रेगनेंसी के होने नव जीवन के विकास के लिए महिलाओं के शारीर में खून की अधिक मात्रा का निर्माण होने लगता है जिसके कारन किडनी को पूर्व से अधिक तेहि से कार्य करना पड़ता है जिसके फलस्वरूप महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान बार बार पेशाब आना बहुत आम लक्षण माना जाता है|

9. कब्ज या डायरिया :- प्रेगनेंसी के होने पर महिलाओं को पहले से अधिक भूख लगने लगती है व अचानक से भूख के बढ़ने व पहले से अधिक आहार का सेवन करने से महिलाओं का डाइट का रुटीन बिगड़ जाता है व पानी के असंतुलित आपूर्ति के कारन डिहाइड्रेशन भी होने लगती है जिससे गर्भवती महिलाओं में कब्ज अथवा डायरिया का होना आम समस्या देखा गया है|

10. सिर दर्द :- गर्भावस्था में सिर दर्द होना एक आम सकेंतों में से एक माना जाता हैं| हार्मोन में बदलाव आने के कारण ब्लड ग्लूकोज का स्तर कम हो जाता है, जिससे सिर दर्द का होना प्रारंभ हो जाता है|

11. बेहोश होना :- गर्भावाथा की महिलाओं में ब्लड प्रेशर कम हो जाता हैं, जिससे उन्हें चक्कर आते है| यदि शारीर में कमजोरी हो तो कई बार बेहोस भी हो जाती है| बेहोश होना वैसे तो किसी खतरे की ओर इशारा नहीं करता, लेकिन बेहोसी की स्थिति आये इसके साथ अगर योनि में खून और पेट-दर्द होने लगें तब तुरंत डॉक्टर से सलाह जरूर लेना चाहिए|

पीरियड मिस होने और उल्टी होने का क्या कारण है?

पीरियड्स की समय अवधि थोड़ी बहुत आगे पीछे हो सकती है और उलटी होने के भी कई कारन होते है लेकिन सहवास के पश्चात यदि पीरियड्स मिस हो जाये अथवा उलटी आये तब यह प्रेगनेंसी का संकेत देती है|

गर्भ ठहरने के शुरुआती लक्षण क्या है?

पेट में ऐठन, महिला के शारीर के तापमान में वृधि, उलटी होना, मूड स्विंग्स आना, भूख बढ़ना व अधिक पेशाब लगना इत्यादि गर्भ ठहरने के शुरुआती लक्षण माने जाते है|

पीरियड मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी होती है?

महिला के गर्भाशय में गर्भ धारण के 4 से 6 सप्ताह के बाद उलटी का लगना प्रारंभ होता है इसलिए सहवास से लेकर पीरियड्स आने की अवधि व 6 सप्ताह तक बचे शेष अवधि के बाद उलटी आना व मिचली आने जैसी लक्षण दिखाई पड़ते है|

पीरियड मिस होने के 7 दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे

यदि आपके सहवास के बाद पीरियड्स मिस हो गया है व पीरियड्स की अवधि से 2 से 3 दिन अधिक बिट गए तब आप तुरंत ही दवाई के दूकान पर मिलने वाली प्रेगनेंसी टेस्ट किट के मदद से प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकते है इसके लिए 7 दिनों तक इंतज़ार करने की आवश्यकता नहीं|

प्रेगनेंसी कितने दिन में पता चलता है

जब पुरुष का सुक्रानु महिला के अंडाणु से मिलकर निषेचन की प्रक्रिया पूर्ण कर लेता है जिसमे 24 घंटे लगते है तब महिला के गर्भ में भ्रूण का स्थापन होता है| अतः 6 से 8 दिनों के बाद प्रेगनेंसी का बहुत सरलता से प्रेगनेंसी टेस्ट किट के द्वारा पता लगाया जा सकता है|

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है इसके बारे में व प्रेगनेंसी से जुड़े कई विशेष पहलुओं के बारे में बात की है| सामान्यतः प्रेगनेंसी के बाद 4 से 6 सप्ताह में महिला को उलटी आना जी मिचलाना ये सब लक्षण दिखाई पड़ने लगते है इसलिए पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है इस बात को जानने के लिए आप अपने सहवास के दिनाक से लेकर आने वाले पीरियड्स तक के दिन की गन्ना कीजिये यदि 4 से 6 सप्ताह की अवधि नहीं पूर्ण हुई तब सेष बचे अवधि के बाद उलटी आना व जी मिचलाने की जैसी लक्षण देखने को मिल जाते है|

यदि आपने पीरियड्स मिस होने के कितने दिन बाद उल्टी लगती है इस लेख को पूरा पढ़ लिया है तो आशा करते है आपको इस लेख को पढ़कर बहुत कुछ जरुरी जानकारी जानने को मिली होगी| लेख पूरा पढने के लिए आपका धन्यवाद|

Rate this post

Leave a Comment